December 20, 2018

सत्संग, कही भी होसकती है !

"सत्संग" कही भी, कभी भी, होसकती है | लेकिन, भगवान की प्रति भक्ति, श्रद्धा, और विश्वास की कमी नहीं होनी चाहिए |  भगवान की स्मरण करने केलिए मंदिर हो तो अच्छा है | लेकिन, दिल में विश्वास, भक्ति, और प्रेम हो तो, एक सार्वजनिक उद्यान भी एक बेहतर जगह हो सकती है | इस का जीता जागता उदहारण है, मुम्बई के घाटकोपर (प) में स्तिथ "हिमालय जॉगर्स पार्क" की :

"हिमालय पर्वतीय को ऑपरेहटीव हाऊसिंग सोसायटी" के  औरतेँ,  इस बात को साबित करके दिखाया है | वैसे तो  रोज शाम वे सभी सदस्याएं  गार्डन  में मिलतेही  है | वहाँ, सब मिलकर "हनुमान चालीसा पढ़ते/अभ्यास" करते  है. राम नाम जाप, श्रीमद भगवद्गीता  पठन , भजन, आदि  भी होता है |


                                                                              
                                                           "Bachche man ke sachche
                                                             bachche man ke sachche
                                                             saari jag ki aankh ke tare
                                                             ye vo nanhe phul hai jo
                                                             bhagvaan ko lagte pyaare
                                                             bachche man ke sachche"
                                                             "Saari jag ki aankh ke tare
                                                             ye vo nanhe phul hai jo
                                                             bhagvaan ko lagte pyaare
                                                             bachche man ke sachche"